08Mar

व्हीाईएसएम काॅलेज में मना ‘‘अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस’’ महिला प्राध्यापिकाओं एवं महिला कर्मचारियों का हुआ सम्मान

व्हीआईएसएम ग्रुप आॅफ स्ट्डीज़ में इस वर्ष भी अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर कार्यक्रम आयोजित किये गए। पूरी तरह से संस्थान की महिलाओं द्वारा महिलाओं के लिये आयोजित इस कार्यक्रम में संस्थान की वरिष्ठ महिला प्राध्यापिकाओं एवं महिला कर्मचारियों का सम्मान कर उनके द्वारा किये गए कार्यों के प्रति कृतज्ञता प्रदर्शित की गई। समस्त महिलाओं ने चेयररेस एवं एक मिनट प्रतियोगिता में भाग लेकर आनन्द लिया। संस्थान की चेयरपर्सन श्रीमती सरोज राठौर एवं ग्रुप निदेशक डाॅ. प्रज्ञा सिंह ने प्रतियोगिता में शामिल होकर इस अवसर को और अधिक आकर्षक बनाया। इस मौके पर चेयरपर्सन श्रीमती सरोज राठौर ने समस्त महिला कर्मचारियों को संदेश देते हुए कहा कि महिलाऐं ही परिवार, समाज एवं विश्व की असली संचालक है। आज जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में महिलाओं के कीर्तिमान हमें इस असलीयत को बता रहें है। प्रशासनिक सेवा, विज्ञान, खेल जगत और तकनीकी क्षेत्र में महिलाऐं अग्रणी भूमिका निभा रहीं है, बल्कि मैं तो यहा तक कहूगी कि प्रशासनिक एवं खेल जगत में महिलाऐं पूरूषो से बेहतर साबित हुई है। वर्तमान समय में कार्पोरेट जगत मंे महिलाऐं महत्वपूर्ण पदों पर आसीन है। हाल ही में भारतीय सेना में एक महिला अधिकारी ले. जनरल के पद तक पहुची हैं। सर्वोच्च न्यायलय ने भी भारतीय सेना में महिलाओं के प्रगति के सभी बाधाओं को दूर किया है। उन्होने कहा कि इतना होने के बावजूद भी अभी मंजिल दूर है। विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रो में रहने बाली महिलाओं को शिक्षित कर उन्हें आगे बढ़ाने की जरूरत है, ताकि वे भी बदलते परिवेश में अपना योगदान दे सकें। उन्होने उपस्थित महिला कर्मचारियों को महिला दिवस की शुभकामनाएं दी। अंत में सस्थान की ओर से महिला सदस्यों के लिये भोज का आयोजन किया गया। 

07Mar

व्हीआईएसएम काॅलेज में धूमधाम से मना रंगोत्सव

व्हीआईएसएम ग्रुप आॅफ स्ट्डीज़ में आज रंगो का त्यौहार ‘‘होलिकात्सव’’ मनाया गया। संस्थान परिसर में आज सुबह से ही सारा संस्थान परिवार पूरी तरह रंगो का त्यौहार मनाने के लिये उत्सुक दिखाई दिया। दोपहर 2 बजे से समस्त स्टाॅफ संस्थान के प्रागण में एकत्रित हुआ, एक दूसरे को रंग-गुलाल एवं फूलो की होली के साथ होली की बधाई दी। इस अवसर पर कुछ कर्मचारियों ने होली से सम्बन्धित कबिताओं का पाठ किया। संगीत की धुनो पर डांस किया एवं एक दूसरे को होली के टाईटल दिये। महिला कर्मियों ने होली फाग गाकर पूरे माहौल को उत्साह से भर दिया। इस अवसर पर कर्मचारियों के बीच रस्सा खीच प्रतियोगिता भी हुई साथ ही चेयररेस व एक मिनट प्रतियोगिताआंे का भीे आनन्द लिया। संस्थान के चेयरमैन डाॅ. सुनील राठौर, चेयरपर्सन श्रीमती सरोज राठौर एवं ग्रुप निदेशक डाॅ. प्रज्ञा सिंह ने प्रतियोगिताओं में सहभागिता कर सभी का उत्साह बढ़ाया। डाॅ. राठौर ने इस अवसर पर व्हीआईएसएम परिवार के सभी सदस्यों को होली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि त्यौहार हमारे जीवन को उत्साह से भर देते है, जीवन की निरसता को खत्म करते है। होली का त्यौहार हमें गिले शिकवे दूर कर मिल जुलकर रहने का संदेश देता है। आपस मे प्रेम भाव बढाने की प्रेरणा देता है। हमें इस अवसर पर पूरे वर्ष संस्थान में सुखमय पारिवारिक माहौल बनाये रखने का सकल्प लेना चाहिए अंत में उन्होने सभी सदस्यों को गुलाल लगाया। सभी ने मिष्ठान एवं पकवान का आनन्द लिया।

28Feb

व्हीआईएसएम में मनाया गया नेशनल साइंस डे

व्हीआईएसएम ग्रुप आॅफ स्ट्डीज़ मंे आज राष्ट्रीय विज्ञान दिवस मनाया गया। कार्यक्रम में पोस्टर प्रेजेन्टेशन एवं क्वीज काॅम्पटीशन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि कर्नल जोगेन्द्र सिंह तंवर, सीओ, 15वी बटालियन, एसएएफ ग्वालियर एवं उनकी पत्नी रूपल तंवर रहें। कार्यक्रम की शुरूआत मां सरस्वती पूजन व दीप प्रज्जवलन से हुई। इसके पश्चात् विज्ञान विषय पर क्वीज काॅम्पटीशन का आयोजन किया गया। साथ ही पोस्टर प्रेजन्टेशन भी आयोजित किया गया। जिसमें बीएससी चतुर्थ वर्ष की रिचा प्रथम रहीं एवं राहुल जीएनएम द्वितीय वर्ष व दावा डोना जीएनएम तृतीय वर्ष ने क्रमशः द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त किया। क्वीज काॅम्पटीशन में 6 टीमों ने भाग लिया जिसमें आशीष एवं शिवम जीएनएम द्वितीय वर्ष के छात्रों ने विजेता ट्राॅफी अपने नाम की। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि श्री तंवर ने अपने उदबोधन में छात्र-छात्राओं को बताया कि आज विज्ञान ही हमारे लिये महाग्रंथ है, मार्गदर्शक है। विज्ञान के चमत्कारो ने हमारे जीवन में आमूल परिवर्तन किये है। आज दुनिया छोटी हो गई है। संचार माध्यम एक क्षण में सम्पूर्ण दुनिया को एक कर देते है। इसके साथ-साथ उन्होने छात्र-छात्राआंे से आहवान् किया कि वे एनसीसी में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें क्योकि एनसीसी हमें अनुशासित करती है। इस अवसर पर संस्थान के चेयरमैन डाॅ. सुनील राठौर ने मुख्य अतिथि का स्वागत करते हुए उनके द्वारा महाविद्यालयों में एनसीसी के बढाने के लिये किये गए प्रयासो की सराहना की। साथ ही उन्होने छात्र-छात्राओं को विज्ञान विषय में अपनी रूचि बढाने की प्रेरणा दी। उन्होने यह भी कहा कि हमारा संस्थान विज्ञान विषय पर वर्ष भर मंे कई आयोजन करता है जिससे हमारे विद्यार्थीयों को कई जानकारिया मिलती है। उन्होनें बताया कि इस वर्ष विज्ञान विषय की थीम महिलाओं की विज्ञान में भागीदारी है। इस अवसर पर मुख्य अतिथि कर्नल जोगेन्द्र सिंह तंवर का सेवाकाल समाप्त होने पर संस्थान के चेयरमैन डाॅ. सनील राठौर ने शाॅल, श्रीफल एवं स्मृति चिन्ह देकर अभिनन्दन किया गया। इस अवसर पर संस्थान की गु्रप निदेशक डाॅ. प्रज्ञा सिंह, नर्सिंग निदेशक के साथ-साथ समस्त कर्मचारीगण एवं छात्र-छात्राऐं उपस्थित रहें। 

22Feb

व्हीआईएसएम ग्रुप आफ स्ट्डीज़ में स्व. श्री गुरूबख्श सिंह राठौर जी की पांचवी पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित कर किया याद

व्हीआईएसएम ग्रुप आॅफ स्ट्डीज के संस्थापक डाॅ. सुनील कुमार सिंह राठौर जी के पिताजी स्व. श्री गुरूबख्श सिंह राठौर जी की पांचवी पुण्यतिथि महाविद्यालय में मनाई गई। इस मौके पर व्हीआईएसएम ग्रुप की निदेशक डाॅ. प्रज्ञा सिंह ने स्व. श्री गुरूबख्श सिंह जी के निजी जीवन और उनके द्वारा समाज में शिक्षा के क्षेत्र मेें किये गए कार्यो पर प्रकाश डालते हुए बताया कि स्व. श्री गुरूबख्श सिंह का जन्म सन् 1919 में सनौड़ा ईश्वरी जिला फरूर्खाबाद  उ.प्र. में हुआ था । 5 वर्ष की उम्र में ही उनके पिताजी का स्वर्गवास हो गया, इसके बावजूद भी उन्होने गाव से 7 किमी. दूर जाकर अपनी शिक्षा पूरी की ओर अपने लक्ष्य को पूरा किया। पूज्य पिताजी समाजसेवक, इतिहासकार एवं शिक्षा के समर्थक थें। उनके अथक प्रयासो से गाॅव में सर्वप्रथम प्राइमरी स्कूल स्थापित किया तथा सन् 1972 में स्वयं का जूनियर हाई स्कूल खोलकर गरीब किसानो के बच्चो को एक अच्छी शिक्षा प्रदान कराई। स्व. श्री गुरूबख्श सिंह राठौर जी से प्रेरणा प्राप्त कर उनके सबसे छोटे पुत्र डाॅ. सुनील राठौर ने सन् 2006 मंे व्हीआईएसएम ग्रुप आॅफ स्ट्डीज़ की शुरूआत उनके रहते हुए की और उनके सपनो को साकार किया।  अंत में संस्थान की चेयरपर्सन श्रीमती सरोज राठौर, निदेशक डाॅ. प्रज्ञा सिंह सहित समस्त स्टाॅफ व छात्र-छात्राओं ने स्व. श्री गुरूबख्श सिंह जी को श्रद्धासुमन अर्पित किये साथ ही इस मौके पर छात्र-छात्राओं को भगवत गीता वितरित की गई। 

26Jan

व्हीआईएसएम में मनाया गया 71वां गणतंत्र दिवस

व्हीआईएसएम ग्रुप आॅफ स्ट्डीज में 71वां गणतंत्र दिवस बड़े हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। कार्यक्रम की शुरूआत में मुख्य अतिथि श्री श्रीधर पराणकर प्रख्यात साहित्यकार एवं विचारक, द्वारा ध्वजारोहण किया गया। इसके पश्चात् संस्थान के एन.सी.सी. बाॅयज एवं गल्र्स कैडेट्स ने आकर्षक परेड करते हुए सलामी दी। ध्वजारोहण के पश्चात् संस्था प्रमुख द्वारा उपस्थ्ति विद्यार्थियों को भारत के संविधान की उद्देशिका का वाचन करवाया। समारोह के सांस्कृतिक कार्यक्रम महाविद्यालय के सभागार में हुए जिसमें रविता यादव बी.एस.सी. चतुर्थ वर्ष की छात्रा ने ‘‘देश रंगीला-रंगीला‘‘ गाने पर आकर्षक डांस प्रस्तुत किया। मनीषा शर्मा बी.एस.सी. नर्सिंग चतुर्थ वर्ष की छात्रा ने ‘‘ए मेरे वतन के लोगो‘‘ गीत गाकर माहौल देशभक्ति कर दिया।  वर्षा सोलंकी पोस्ट बेसिक की छात्रा ने मनमोहक नृत्य की प्रस्तुती दी। जी.एन.एम. के छात्र-छात्राओं ने देश पर कुर्बानी करने वाले सैनिकों पर लघु नाटिका प्रस्तुत कर सभी को भावविभोर कर दिया। तद्पश्चात् संस्था के चेयरमेन डाॅ. सुनील राठौर ने देश की आजादी के लिए अपना सब कुछ समर्पित करने वाले शहीदों को श्रृद्धांजलि देते हुए कहा कि क्षत्रपति शिवाजी ने अखण्ड भारत के लिए जो संकल्प लिया था उसे पूरा करने के लिए सुभाषचन्द्र बोस, चन्द्रशेखर आजाद, भगतसिंह, आदि ने अपनी आहुति दी। उन्होंने कहा कि आज भारत कई दिशाओं में आगे बढ़ा है, उसे विश्व पटल पर विशिष्ट स्थान दिलाने के लिए हम सभी को प्रयास करने होंगे। अंत में मुख्य अतिथि श्री श्रीधर पराणकर ने देश की प्राचीन सांस्कृतिक विरासत का उल्लेख करते हुए भारतीय जीवन मूल्यों पर प्रकाश डाला। उन्होंने वैदिक ग्रन्थों के श्लोकों के माध्यम से गणतंत्र को परिभाषित किया उन्होंने कहा गणतंत्र में गण ही प्रमुख होता है सारी व्यवस्था उसी को केन्द्र में रखकर निर्धारित की जाती है। आज शासन उन्हीं उद्धेश्यों को ध्यान में रखकर कार्य कर रहा है। उन्होंने व्हीआईएसएम महाविद्यालय के छात्र-छात्राओं को शुभ कामनाएं देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। इस अवसर पर संस्थान की चेयरपर्सन श्रीमती सरोज राठौर, ग्रुप निदेशक डाॅ. प्रज्ञा सिंह, नर्सिंग डायरेक्टर के साथ-साथ समस्त कर्मचारीगण एवं छात्र-छात्राएं उपस्थित रहें।

25Jan

व्हीआईएसएम में राजमाता की 19वीं पुण्यतिथि पर हुई श्रृद्वाजंली सभा

व्हीआईएसएम ग्रुप आॅफ स्ट्डीज़ में आज दिनांक 25/01/2020 को कैलाशवासी राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी की 19वीं पुण्यतिथि पर श्रृद्वाजंली सभा का आयोजन किया गया। सभा में श्री ध्यानेन्द्र सिंह जी पूर्व मंत्री मध्यप्रदेश शासन एवं श्रीमती माया सिंह जी पूर्व राज्यसभा सदस्य एवं पूर्व मंत्री मध्यप्रदेश शासन मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहें। कार्यक्रम की शुरूआत कैलाशवासी राजमाता विजयाराजे सिंधिया जी के आदमकद चित्र पर माल्यार्पण से हुई। श्री ध्यानेन्द्र सिंह जी ने अपने उद्बोधन में कैलाशवासी राजमाता जी के त्याग एवं तपस्वी जीवन को स्मरण करते हुए उनके साथ व्यतीत किये गए समय का स्मरण किया उन्होने बताया कि राजमाता जी हमेशा गरीबो की सहायता एवं महिलाओं की शिक्षा के लिये तत्पर रहती थी। उन्होने सदेव स्वच्छ राजनीती को अपनाया। श्रीमती माया सिंह जी ने राजमाता जी के सादगीपूर्ण व्यवहार एवं आम लोगो से उनकी मिलन सारिता का जिक्र करते हुए उनके शिक्षा के प्रति जूनून को याद किया। उन्होने बताया कि आज शहर में शिक्षा के क्षेत्र में जो भी कुछ हम देख रहें है उसकी नीव राजमाता जी ने बहुत पहले ही रख दी थी। राजमाता जी के नाम पर शिक्षा संस्थान का नाम रखकर उनको सच्ची श्रृद्वाजंली दी है। मुझे मालूम है कि इस शिक्षा संस्थान से निकले छात्र-छात्राऐं शत्-प्रतिशत रोजगार प्राप्त कर रहें है। इस संसथान ने प्रदेश में अपना विशेष स्थान बनाया है। राजमाता जी का समाज सेवा में अभूतपूर्व योगदान था एवं वे राजपरिवार से होते हुए भी देश की राजनीती में सादगी की मिसाल थी। वे भारतीय जनता पार्टी के संस्थापक लोगो में से एक थी। इसके पश्चात् संस्थान के चेयरमैन डाॅ. सुनील राठौर ने राजमाता जी के शिक्षा के क्षेत्र में किये गये प्रयासो का स्मरण किया एवं कहा कि उन्होने पहले ही सोच लिया था कि किसी भी शहर के विकास के लिये शिक्षा एक अनिवार्य शर्त है एंव इसी को ध्यान में रखकर शहर में इजीनीयरिंग एवं चिकित्सा संस्थान खोले। जीवाजी विश्वविद्यालय राजमाता जी के प्रयासो का ही परिणाम है। उन्होने हमेशा अपने आप को आम जन से जोडे रखा। उनका विशाल व्यक्तित्व हमें एक आदर्श जीवन जीने की प्रेरणा देता है। इस अवसर पर संस्थान  की चेयरपर्सन श्रीमती सरोज राठौर, ग्रुप निदेशक डाॅ. प्रज्ञा सिंह सहित समस्त स्टाॅफ व छात्र-छात्राऐं उपस्थित रहें।